इस ब्लाग की सभी रचनाओं का सर्वाधिकार सुरक्षित है। बिना आज्ञा के इसका इस्तेमाल कापीराईट एक्ट के तहत दडंनीय अपराध होगा।

Saturday, December 15, 2012

ये शराब है............


चित्र गूगल साभार





कातिलाना रूप इसका हुस्न लाजवाब है
देख पैमाने में कैसे बलखाती ये शराब है।

दौर-ए-महफिल हो या हो गमों की बारिशें
तश्नालब की तिश्नगी मिटाती ये शराब है।

लगता है मयकदे में हुजूम शब-ओ-रोज
मयकशों को उंगलियों पर नचाती ये शराब है।

होश में रहने दे अब और न पिला साकी
राज दिलों के सारे खोलती ये शराब है।

11 comments:

  1. सुभनअल्लह. बहुत खूब..

    ReplyDelete
  2. बहुत बढियां...
    :-)

    ReplyDelete
  3. वाह!बहुत सराहनीय प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. होश में रहने दे अब और न पिला साकी
    राज दिलों के सारे खोलती ये शराब है।
    .
    in akhiri panktiyon men sari sachchai sharab ki aa gayee.... behatarin

    ReplyDelete
  5. होश में रहने दे अब और न पिला साकी
    राज दिलों के सारे खोलती ये शराब है ...

    सच कहा है .. मदहोश जो कर देती है ... लाजवाब शेर ...

    ReplyDelete
  6. wahhh,,,,bahut umda..
    राज दिलों के सारे खोलती ये शराब है।
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुतिकरण,आभार है आपका

    आज की मेरी नई रचना जो आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार कर रही है


    ये कैसी मोहब्बत है

    ReplyDelete
  8. idhar bahut din baad aai
    magr aayee to aap ki " sharab" chakhe bina ja na saki
    waaqayee badhiya hai

    ReplyDelete