इस ब्लाग की सभी रचनाओं का सर्वाधिकार सुरक्षित है। बिना आज्ञा के इसका इस्तेमाल कापीराईट एक्ट के तहत दडंनीय अपराध होगा।

Saturday, November 17, 2012

अतीत के पन्ने .........







अतीत के पन्ने
पलटते पलटते
बहुत दूर तक निकल आया था मैं।
तस्वीरें
अब धुधंली हो गई थी।
वक्त की बारिश ने
शब्दों से जैसे
उसकी चमक छीन ली थी।
पर
उन धुधंली तस्वीरों में
एक तस्वीर
तुम्हारी भी थी।
वही मासुमियत
साँवलें चेहरे पर
सुबह की खिलती
किरणों की तरह मुस्कान।
तुम्हारे साथ गुजरा हुआ
हर लम्हा
सबकुछ तो साफ साफ था।


                                  चित्र गूगल साभार


ऐसा लगता है
जैसे
वक्त ने तुम्हे
छुआ ही न हो।
समय के
घूमते हुए चक्र से
तुम बहुत आगे
निकल गई हो।
अतीत की किताब के पन्ने
चाहे कितने भी
धुधंले क्यो न हो जाए
पर लगता है
तुम्हारा पन्ना ताउम्र
अनछुआ ही रहेगा।

18 comments:

  1. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete

  2. कल 19/11/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यशवन्त जी.

      Delete

  3. लगता है
    जैसे
    वक्त ने तुम्हे छुआ ही न हो।
    समय के घूमते हुए चक्र से
    तुम बहुत आगे निकल गई हो।
    अतीत की किताब के पन्ने
    चाहे कितने भी धुधंले क्यो न हो जाए
    पर लगता है
    तुम्हारा पन्ना ताउम्र अनछुआ ही रहेगा

    बहुत सुंदर !
    बहुत खूबसूरत !
    वाऽह ! क्या बात है !

    अमित जी
    रचना भावपूर्ण है …

    सुंदर भाव ! सुंदर शब्द !
    खूबसूरत रचना !

    …आपकी लेखनी से सुंदर रचनाओं का सृजन ऐसे ही होता रहे, यही कामना है …
    शुभकामनाओं सहित…

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार. आपका स्नेह और प्यार इसी तरह मिलता रहे यही कामना है.

      Delete
  4. तुम्हारा पन्ना ताउम्र
    अनछुआ ही रहेगा।

    प्रेम चरम अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. सुंदर भाव
    खूबसूरत रचना ! उन धुधंली तस्वीरों में
    एक तस्वीर
    तुम्हारी भी थी।
    वही मासुमियत
    साँवलें चेहरे पर
    सुबह की खिलती
    किरणों की तरह मुस्कान।
    तुम्हारे साथ गुजरा हुआ
    हर लम्हा
    सबकुछ तो साफ साफ था।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete
  7. वाह.....
    सुन्दर...
    अति सुन्दर.....

    अनु

    ReplyDelete
  8. कोमल अहसासयुक्त अति सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  9. बेहद प्रभावित करती अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुंदर एवं प्रभाशाली रचना अंतिम पंक्तियों ने समा बांध दिया है...

    ReplyDelete
  11. अतीत की किताब के पन्ने
    चाहे कितने भी
    धुधंले क्यो न हो जाए
    पर लगता है
    तुम्हारा पन्ना ताउम्र
    अनछुआ ही रहेगा।

    बहुत सुंदर अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन और शानदार ।

    ReplyDelete
  13. सुन्दर अभिव्यक्ति .....

    ReplyDelete
  14. अतीत की किताब के पन्ने
    चाहे कितने भी
    धुधंले क्यो न हो जाए
    पर लगता है
    तुम्हारा पन्ना ताउम्र
    अनछुआ ही रहेगा।

    .... बहुत खूब! बहुत अद्भुत अहसास...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  15. कहरे एहसास लिए ... सच है वो पन्ना अनछुआ ही लाता है हमेशा .. ताजगी भरा ...

    ReplyDelete